परिचय


गणितीय ब्लॉग "गणिताञ्जलि" पर आपका स्वागत है ! $\ast\ast\ast\ast\ast$ प्रस्तुत वेबपृष्ठ गणित के विविध विषयों पर सुरुचिपूर्ण व सुग्राह्य रचनाएँ हिंदी में सविस्तार प्रकाशित करता है.$\ast\ast\ast\ast\ast$ गणिताञ्जलि : शून्य $(0)$ से अनंत $(\infty)$ तक ! $\ast\ast\ast\ast\ast$ इस वेबपृष्ठ पर उपलब्ध लेख मौलिक व प्रामाणिक हैं.

नवीनतम प्रविष्टियाँ सीधे आपके ई-मेल इनबॉक्स में...नीचे अपना ई-मेल पता प्रविष्ट कर सत्यापित करें !

रविवार, 7 सितंबर 2014

अंकगणितीय संक्रियाएँ

संख्याओं की आधारशिला : भाग - ३  

अपने पिछले लेख प्राकृत संख्याएँ में हमने प्राकृत संख्याओं की अभिगृहीतीय आधारशिला रखी | वहाँ हमने योग और गुणन की संक्रियाएँ भी परिभाषित की | प्रस्तुत लेख में हम इन संक्रियाओं से संबंधित नियमों की चर्चा करेंगे | अंत में हम प्राकृत संख्याओं के निकाय की बीजगणितीय परिभाषा देंगे और इस परिभाषा से प्रेरित होकर हम अमूर्त बीजगणितीय निकाय को भी परिभाषित करेंगे | इस बीजीय निकाय की संकल्पना पूर्णांक संख्याओं की आधारशिला रखने में प्रयुक्त की जाएगी |
शीर्ष पर जाएँ